ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
कैनेडियन पायलेट से लूट को अंजाम देने वाले गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार
July 22, 2019 • Admin

रिपोर्ट : अजीत कुमार

 

 

राजधानी दिल्ली की पुलिस ने दिल्ली में लूट की वारदातों को अंजाम देने वाले गिरोह के तीन सदस्य को गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस ने इस गिरोह की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली दिल्ली पुलिस ने दिल्ली में हुई करीब चार लूट की वारदात को सुलझाने का दावा किया है।
दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में यह वहीं शातिर अपराधी हैं, जो दिल्ली इलाके में लूट की वारदात को अंजाम दिया करते थे। यह गिरोह ओला कैब की गाडी से लूट की वारदात को अंजाम दिया करता था। इस गिरोह ने हाल ही में एक कैनेडियन पायलेट से करीब एक लाख 32 हजार रूपए की लूट को अंजाम दिया था। जिसके बाद हरकत में आते हुए दिल्ली पुलिस ने इस गिरोह के तीन लोगों को गिरफ्तार किया।
दरअसल दिल्ली पुलिस द्वारा मिली जानकारी के अनुसार 12 जुलाई की रात इस गिरोह ने झांसा देकर एक कैनेडियन पायलेट को अपनी गाडी में बैठा लिया। जिसके बाद जबरन उससे लूट की वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान इससे 12000 रूपए नकद, एटीम के द्वारा 1 लाख रूपए और कैनेडियन कार्ड के माध्यम से करीब 30000 रूपए यानि कि कुल मिलाकर करीब 1 लाख 32 हजार की लूट की वारदात को अंजाम दिया। जिसके बाद अगले दिन कैनेडियन पायलेट ने दिल्ली पुलिस को आपबीती सुनाई। और दिल्ली पुलिस इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इस पर काम करना शुरू कर दिया।
दिल्ली पुलिस ने इस मामले में लगातार दबिश देते हुए सीसीटीवी फुटेज व अन्य कई एंगल से तफ्तीश शुरू की। जिसके बाद दिल्ली पुलिस को इन आरोपियों का सुराग लगा। और साहिबाबाद में पहले से ही किसी अन्य मुकदमे में आए इन अभियुक्तों को कोर्ट परिसर से हिरासत में ले लिया।
दिल्ली पुलिस ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया कि यह गिरोह अकेले व्यक्ति खासतौर पर ऐसे लोगों को अपना शिकार बनाता था जिनके पास से कुछ अच्छी रकम की इन्हें उम्मीद होती थी। दिल्ली पुलिस ने यह भी बताया कि जिस गाडी से यह वारदात को अंजाम देते थे, वह इन्होने ओला कंपनी में लगा रखी थी, और वह भी मासिक किश्तों पर चल रही थी। हालांकि इन्होने पिछले 3 महीने में अपनी गाडी ओला कंपनी में नहीं चलाई थी।
बहरहाल यह तीनों सदस्य अब दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में हैं। इसके अलावा इस गिरोह की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस चार मामलों को सुलझाने का दावा कर रही है। और यह सभी उत्तर प्रदेश के मेरठ के बताए जा रहे हैं।