ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
क्राइम पेट्रोल देख कर रची गई मासूम बच्चे के अपहरण की वारदात, अब पुलिस की गिरफ्त में
August 5, 2019 • Admin

रिपोर्ट : अजीत कुमार

 

 

राजधानी दिल्ली की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाल रही दिल्ली पुलिस ने एक बार फिर से साबित कर दिया है, कि वह दिल्ली की सुरक्षा के प्रति कितनी सजग है। ताजा मामला दिल्ली बवाना इलाके का है, जहां रविवार को बवाना थाने की पुलिस के पास 3 साल के बच्चे की किडनैपिंग का मामला सामने आया, और पुलिस ने इसे 6 घंटे में सुलझाते हुए बच्चे को सकुशल परिवार को सौप दिया।

राजधानी की दिल्ली पुलिस दिल्लीवासियों की सुरक्षा के प्रति कितना सजग है, इसका ताजा मामला दिल्ली के बाहरी नाॅर्थ जिला में दिखने को मिला है। जहां पुलिस ने 3 साल के बच्चे की किडनैपिंग का मामला मजह 6 घंटे में सुलझा लिया, और बच्चे को उसके माता पिता के पास सकुशल सौंप दिया। साथ अपहरण करने वाले अपराधियों को भी अपनी गिरफ्त में ले लिया, उसे उसकी असली जगह पहॅुचा दिया।

दरअसल रविवार शाम को दिल्ली के बाहरी नाॅर्थ जिला के अंतर्गत आने वाले बवाना थाना में 3 साल के बच्चे की किडनैपिंग का मामला सामने आया था। जिसमें दिल्ली पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए तुरंत इस पर कार्यवाही की, और मात्र 6 घंटे के अंदर ना सिर्फ बच्चे को ढूंढ निकाला, बल्कि इसको सुलझाते हुए 3 आरोपियों को भी गिरफ्तार किया। अपहरण की इस वारदात में ध्रुव उर्फ संजय नाम का युवक मुख्य अपराधी को गिरफ्तार किया गया साथ ही इस अपहरण में शामिल थी संजय की मां और उसकी बहन को भी गिरफ्तार किया गया। जिसके बाद आज यह 3 साल का बच्चा अपने परिवार के साथ हंसी खुशी से खेल रहा है।

इस मामले में जानकारी देते हुए डीसीपी गौरव शर्मा ने बताया कि संजय के पास पैसों की तंगी थी जिसके चलते उसने इस वारदात को अंजाम दिया था। संजय ने फिरौती के लिए 75 लाख रुपए की डिमांड रखी थी, लेकिन दिल्ली पुलिस ने 6 घंटे में ही 3 साल के मासूम को उसके परिवार से मिलवा दिया। दिल्ली पुलिस ने मासूम को किडनैपर से छुड़वाने के लिए आठ टीमों का गठन किया था जिसमें दिल्ली पुलिस ने सफलतापूर्वक मासूम को बरामद कर लिया। डीसीपी गौरव शर्मा ने खास जानकारी देते हुए बताया कि अपहरण की यह वारदात क्राइम पेट्रोल देख कर रची गई थी।

बहरहाल आज यह 3 साल का मासूम अपने परिजनों के साथ है, जिसके बाद परिवार में खुशी का ठिकाना नहीं है। आज यह परिवार दिल्ली पुलिस की तारीफ करते नहीं थक रहा है, क्योंकि दिल्ली पुलिस ने इस मामले में जिस तरह से अपनी सक्रियता दिखाई, और मामले को सुलझाया वो वास्तव में तारीफ के काबिल है।