ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
भारतीय सभ्यता मूलत: सामंजस्यवादी सौहार्दपूर्ण है: उपराष्ट्रपति
June 27, 2019 • Admin

रिपोर्ट : अजीत कुमार

 

 

उपराष्ट्रपति एम. वेंकेया नायडु ने बल देकर कहा कि भारत की सभ्यता का आधार ही समन्वयवादी, समावेशी तथा सौहार्दपूर्णरहा है। उन्होंने कहा कि किसी और दर्शन या धर्म में समानता के सिद्धांत को इतने मौलिक रुप में नहीं अपनाया गया है जितना किभारतीय दर्शन परंपरा मे जिसके मूल में हिंदू धर्म है।

भारत में धार्मिक आजादी पर जारी हाल की रिपोर्टों की चर्चा करते हुए उपराष्ट्रपति ने दोहराया कि सदियों से भारत भूमि पर विभिन्नविचारों, दर्शनों और मतों ने जन्म लिया और उनका अबाध प्रचार-प्रसार भी हुआ।

गुरु नानक देव जी के 550वें जन्म जयंती वर्ष पर स्मारक सिक्का जारी करने के अवसर पर, उन्होंने कहा कि भारतीय समाज कीविविधता तो तीसरी सदी ईसापूर्व के सम्राट अशोक और खारवेल के अभिलेखों में ही परिलक्षित होती है। उन्होंने कहा कि भारतीय दर्शनवसुधैव कुटुंबकम की अवधारणा को स्वीकार करता है जिसमें पूरे विश्व को ही एक परिवार माना गया है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता हमारे संविधान के अनुच्छेद 25 तथा 28 के तहत सबका मौलिक अधिकार है। उन्होंने कहा किसंविधान की पूर्वपीठिका में ही भारत को एक धर्म निरपेक्ष राष्ट्र स्वीकार किया गया है जिसके तहत धार्मिक भेदभाव के परे हर नागरिकको समान अधिकार प्राप्त हैं। उन्होंने कहा कि संविधान हमारी 5000 वर्षों के सांस्कृतिक मूल्यों का ही सार है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि गुरु नानक देव भारत की महान आध्यात्मिक विभूतियों में से एक थे। वे भक्तिकालीन उदार आध्यात्मिकपरंपरा के सच्चे प्रतिनिधि थे। उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी ने मनुष्य की आस्थाओं और विश्वास को कर्मकांडों और अंधविश्वासके खंडहरों से निकाल कर वापस सामान्य व्यक्ति के हृदय और आत्मा में स्थापित किया। इस संदर्भ में उपराष्ट्रपति ने नारीसशक्तिकरण पर गुरु नानक देव जी के उदार दृष्टिकोण को अनुकरणीय बताया।

उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी ने संतुष्ट और खुशहाल जीवन जीने के लिये नैतिक और करुणामय मार्ग का प्रतिपादन किया। उन्होंने मानवता के तीन स्वर्णिम सिद्धांत प्रतिपादित किये - कीरत करो अर्थात अपनी जीविका मेहनत और ईमानदारी से कमाओं, नामजपो अर्थात ईश्वरीय कृपा को अपनी आत्मा में और अपने चतुर्दिक महसूस करो तथा वांद छको अर्थात नि:स्वार्थ भाव से दूसरों के साथअपनी समृद्धि बांटो।

नायडु ने कहा कि गुरु नानक देव जी ने Share and Care की भारतीय परंपरा को सामाजिक नैतिकता का आधार प्रदान किया, जिसनेगत 550 वर्षों से हमारा मार्ग दर्शन किया है। उन्होंने कहा कि ये कालातीत आदर्श आज कहीं अधिक प्रासंगिक है जब हम तीव्रतर दर सेविकास कर रहे हैं। उपराष्ट्रपति ने कहा कि हमारा विकास सर्वस्पर्शी और सौहार्दपूण होना चाहिए तभी वह स्थायी और सतत रह सकेगा।समृद्धि का कुछ ही हाथों में सीमित हो जाना, न केवल अर्थव्यवस्था को कमजोर करेगा बल्कि सामाजिक वैमनस्य भी पैदा करेगा।

उपराष्ट्रपति ने आगाह किया कि तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था में कोई भी वर्ग पीछे छूटना नहीं चाहिए। 'एक समाज के रुप में हमाराकर्तव्य है कि संपन्न वर्ग दुर्बल वर्गों के हितों, तथा सम्मान की रक्षा करे।'