ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
हिंदी सिनेमा की मशहूर अदाकारा सुचित्रा सेन का बाॅलीवुड सफर
April 6, 2019 • Admin

 

 

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

 

हिंदी सिनेमा की मशहूर अदाकारा सुचित्रा सेन अपनी खूबसूरती ही नहीं बल्कि अपने बेबाक अंदाज और मनमौजी मिजाज के लिए भी जानी जाती थीं। 17 जनवरी 2014 को सुचित्रा इस दुनिया से परदा कर सबको हमेशा के लिए अलविदा कह गईं। आज हम उस वक्त की दमदार अदाकारा के जीवन के बारें में कुछ ऐसी बातेें बताएंगे जो शायद बहुत कम लोग जानते हैं। 

हिंदी सिनेमा में गिनी चुनी फिल्में कर अपनी अदाकारी के झंडे गाड़ने वाली अभिनेत्री सुचित्रा सेन 17 जनवरी के दिन साल 2014 में सिनेमा की इस महानायिका का निधन हुआ था।1952 में प्रदर्शित बांग्ला फिल्म सारे चतुर उनकी पहली फिल्म थी इसमें उनके साथ उत्तम कुमार थे। सुचित्रा सेन को भारतीय सिनेमा में एक ऐसी एक्ट्रेस के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी विशेष पहचान बनाई। सुचित्रा सेन का असली नाम रोमा दासगुप्ता है। सुचित्रा के पिता करूणोमय दासगुप्ता स्कूल में हेडमास्टर थे। 5 भाई बहनों में सुचित्रा तीसरी संतान थीं।
सुचित्रा सेन का जन्म 06 अप्रैल 1931 को पवना में हुआ जो अब बंगलादेश का कहलाता है। सुचित्रा सेन ने अपनी स्कूली पढ़ाई पवना से ही की। इसके बाद वह इंग्लैंड चली गईं और समरविले कॉलेज, ऑक्सफोर्ड से अपना ग्रेजुएशन किया। 1947 में उनकी शादी बंगाल के जाने माने बिजनेसमैन आदिनाथ सेन के बेटे दीबानाथ सेन से हुई। 1952 में सुचित्रा सेन ने एक्ट्रेस बनने के लिए फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा और बांग्ला फिल्म शेष कोथा में काम किया हालांकि फिल्म रिलीज नहीं हो सकी। इसके बाद उन्हें बड़ी- बड़ी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने लगे। सुचित्रा ने हिंदी और बांग्ला में कुल मिलाकर 61 फिल्में की, इनमें से 20 से ज्यादा फिल्में ब्लॉकबस्टर रहीं तो वहीं एक दर्जन के ज्यादा फिल्में सुपर हिट रहीं। 

साल 1962 में रिलीज हुई फिल्म बिपाशा सुचित्रा के जीवन का आनोखा मोड़ साबित हुई। फिल्म के लिए उन्होंने हीरो से ज्यादा फीस ली थी, बता दें फिल्म में सुचित्रा को एक लाख रुपये बतौर फीस मिली, जबकि फिल्म के हीरो उत्तम कुमार की फीस 80 हजार रुपये थी। इतना ही नहीं सुचित्रा अपनी जिंदगी को अपनी शर्तों पर जीने वाली अभिनेत्री थीं। सुचित्रा सेन बड़े से बड़े फिल्मकारों के साथ काम करने का प्रस्ताव ठुकराती रहीं। सुचित्रा ने राज कपूर की एक फिल्म में काम करने का प्रस्ताव इसलिए ठुकराया क्योंकि राज कपूर द्वारा झुककर फूल देने का तरीका उन्हें पसंद नहीं आया था। यही नहीं सुचित्रा ने सत्यजीत राय की फिल्म को भी मना कर दिया था। सत्यजीत राय ने फिल्म ‘देवी चैधरानी’ बनाने का विचार ही छोड़ दिया। साल 2005 में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार का प्रस्ताव उन्होंने महज इसलिए ठुकरा दिया, क्योंकि इसके लिए उन्हें कोलकत्ता से दिल्ली जाना पड़ता।
1963 में सुचित्रा सेन की एक और सुपरहिट फिल्म ‘सात पाके बांधा’ रिलीज हुई। उन्हें इस फिल्म के लिए मास्को फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ फिल्म एक्ट्रेस के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह फिल्म इंडस्ट्री के इतिहास में पहला मौका था जब किसी भारतीय एक्ट्रेस को विदेश में पुरस्कार मिला था। बाद में इसी कहानी पर 1974 में हिंदी में ‘कोरा कागज’ बनीं जिसमें सुचित्रा सेन का किरदार जया बच्चन ने निभाया।
मिसेज सेन के नाम से मशहूर सुचित्रा सेन शायद भारतीय फिल्म इतिहास की पहली अभिनेत्री थीं जिन्होंने अपनी पहली फिल्म उस समय की जब वो एक बच्ची की मां बन चुकी थीं। उनका साड़ी बांधने का अंदाज, बाल काढ़ने का ढंग और धूप का चश्मा पहनने की अदा युवाओं में उन्माद की हद तक लोकप्रिय थी। हिंदी सिनेमा में सुचित्रा सेन की धमाकेदार एंट्री हुई बिमल रॉय की ‘देवदास’ से। साल 1955 में रिलीज हुई ‘देवदास’ में सुचित्रा सेन ने पारो की भूमिका में जान भर दी। वहीं सुचित्रा सेन 1975 में रिलीज हुई फिल्म ‘आंधी’ से अपनी एक अलग छाप छोड़ी। 

सुचित्रा सेन आखिरी बार साल 1978 में प्रदर्शित बांग्ला फिल्म ‘प्रणोय पाश’ में दिखीं। इस फिल्म के बाद उन्होंने इंडस्ट्री से संन्यास ले लिया। अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के बीच खास पहचान बनाने वालीं सुचित्रा सेन 17 जनवरी 2014 को इस दुनिया को अलविदा कह गयीं।