ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
24 घंटे में तीन राजनीति दिग्गजों ने दुनियां को कहा अलविदा
July 21, 2019 • Admin

रिपोर्ट: अजीत कुमार

 

 

देश की राजनीति में पिछले 24 घंटे बडे भारी रहे। यां फिर यूं कहें कि पिछले 24 घंटे में राजनीतिक जगत को बहुत गहरा धक्का मिला है, तो शायद ये कहना भी गलत नहीं होगा। यहां ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि मात्र 24 घंटे के अंदर राजनीति के तीन दिग्गजों ने इस दुनियां को अलविदा कह दिया। जिसमें सबसे पहला नाम पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का आता है। दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने 81 साल की उम्र में शनिवार को एस्कॉर्ट अस्पताल में निधन हो गया। उन्होंने 3.55 बजे अंतिम सांस ली। रविवार दोपहर कोे निगमबोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। शीला दीक्षित सबसे लंबे समय तक तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। 1998 से लेकर 2013 तक उन्होंने दिल्ली का शासन संभाला। उनके सम्मान में दिल्ली सरकार ने दो दिन के राजकीय शोक रखा है।
इस फेहरिस्त में दूसरा नाम दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष, वरिष्ठ संघ सहयोगी मांगे राम गर्ग का है। वे बीमार थे और उत्तरी दिल्ली के एक्शन बालाजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। रविवार को सुबह साढे सात बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। हलवाई रहे मांगे राम ने 2003 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में पहली बार जीत दर्ज की थी और विधायक बने थे। लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा की चुनावी रणनीति बनाने व चुनाव प्रचार को आगे बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली भाजपा के नेताओं को अहम जिम्मेदारी सौंपी गई थी। जिम्मेदारी पाने वाले नेताओं में मांगे राम गर्ग का नाम भी शामिल था।
इस फेहरिस्त में तीसरा नाम राम विलास पासवान के भाई व सांसद रामचंद्र पासवान का है। बिहार के समस्तीपुर से सांसद और लोक जनशक्ति पार्टी के वरिष्ठ नेता रामचंद्र पासवान का रविवार को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में निधन हो गया है। रामचंद्र पासवान का पार्थिव शरीर राम मनोहर लोहिया अस्पताल से उनके दिल्ली आवास राजेन्द्र प्रसाद रोड ले जाया गाय। इसके बाद सोमवार को पटना में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। चिराग पासवान ने अपने चाचा रामचंद्र पासवान के निधन की जानकारी दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामचंद्र पासवान के निधन पर ट्वीट कर शोक जताया।
आपको बताते जाए कि लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान के छोटे भाई रामचंद्र पासवान को 12 जुलाई की रात दिल का दौरा पड़ा था, इसके बाद उन्हें दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सांसद रामचंद्र पासवान का रविवार को दोपहर निधन हो गया था।
उल्लेखनीय है कि लोक जनशक्ति पार्टी के नेता रामचंद्र पासवान हाई प्रोफाइल समस्तीपुर लोकसभा सीट से दूसरी बार जीत हासिल करके सांसद बने थे। हाल रही में हुए लोकसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार अशोक कुमार को पटकनी दी थी।