ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
धर्मेंद्र प्रधान ने सुदूर पूर्वी रूस के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की
December 1, 2019 • Admin

 

 

 

केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने फॉर ईस्ट रूस निवेश और निर्यात एजेंसी के सीईओ एच.ई. लियोनिद पेटकोव से दिल्ली में मुलाकात की। रूसी प्रतिनिधिमंडल में रूसी राजदूत एच.ई. निकोले कुदाशेव, भारत में रूसी संघ के व्यापार प्रतिनिधि, यारोस्लाव तरसुक, सुदूर पूर्व रूस निवेश और निर्यात एजेंसी के अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। इस्पात, कोयला, और विदेश मामलों के वरिष्ठ प्रतिनिधियों के साथ इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, सचिव (इस्पात) बिनॉय कुमार भी मौजूद थे।

सुदूर पूर्वी रूस के साथ विशेष रूप से धातुकर्म या कोकिंग कोयले की सोर्सिंग, सुदूर पूर्व रूस बंदरगाहों के बुनियादी ढांचे के विकास और रूसी खनन स्थानों के साथ इन बंदरगाहों की कनेक्टिविटी, और निकासी के बुनियादी ढांचे में सुधार के माध्यम को लेकर चर्चा हुई।

प्रधान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुदूर पूर्वी रूस की यात्रा के संबंध में प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने आगे कहा कि पिछले तीन महीनों के दौरान मास्को और व्लादिवोस्तोक की अपनी यात्रा के अनुसार, जिसमें उन्होंने रूस के उप प्रधान मंत्री, एच.ई. यूरी ट्रुटनेव और बाद में रूसी और भारतीय स्टील कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठकें की है। इसके बाद सुदूर पूर्व रूस से कोकिंग कोयले के नमूनों का परीक्षण शुरू कर दिया गया है।

मंत्री ने कहा कि सुदूर पूर्व रूस से कोयले का उठाव बढ़ सकता है क्योंकि सुदूर पूर्वी रूस से कोकिंग कोयला मूल्य के दृष्टिकोण, उपलब्धता में आसानी, बंदरगाहों से संपर्क और समुद्री परिवहन से अधिक आकर्षक हो जाता है।

उन्होंने उम्मीद जताई कि सुदूर पूर्व में अंतर्देशीय के साथ-साथ पोर्ट लॉजिस्टिक्स और रेल कनेक्टिविटी में रूसी पक्ष द्वारा सुधार भारत के साथ आर्थिक संबंधों को विकसित करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। उन्होंने सुदूर पूर्व रूस निवेश और निर्यात एजेंसी को सुझाव दिया कि भारतीय कंपनियों के लिए अधिमान्य शर्तों पर बंदरगाह सुविधाएं प्रदान करने के लिए वे विशिष्ट रियायतों का संकेत दें जो कोकिंग कोयले के भारतीय आयातकों को दी जा सकती हैं।

प्रधान ने फॉर ईस्ट रूस इनवेस्टमेंट एंड एक्सपोर्ट एजेंसी के प्रतिनिधियों को भारत आने के लिए धन्यवाद दिया और विश्वास व्यक्त किया कि आने वाले महीनों में सुदूर पूर्व रूस से भारतीय इस्पात उद्योग के लिए कोकिंग कोल के आयात में उल्लेखनीय वृद्धि होगी।

भारत फिलहाल 50 से अधिक एमटीपीए कोकिंग कोल का आयात करता है। भारतीय निवेश को आकर्षित करने के लिए सुदूर पूर्व रूस द्वारा दिए गए इस अवसर के मद्देनजर, भारत सरकार ने पहले रूस को 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर का क्रेडिट दिया था। सुदूर पूर्व रूस के साथ आर्थिक संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए इस ऋण का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें सुदूर पूर्व रूस में निकासी बुनियादी ढांचे और कोकिंग कोल का विकास शामिल है।