ALL TOP NEWS INDIA STATE POLITICAL CRIME NEWS ENTERTAINMENT SPORTS CONTACT US
प्राइवेट नर्सिंग होम और अस्पतालों की दरें समान नहीं हो सकतीं: कोर्ट
November 11, 2019 • Admin

 

 

 

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा है कि प्राइवेट नर्सिंग होम और अस्पतालों की दरों में समानता नहीं हो सकती क्योंकि रोगों की प्रकृति तथा प्रकार एवं इलाज की गुणवत्ता पर यह निर्भर करता है। चीफ जस्टिस डी.एन. पटेल और जज सी हरिशंकर की पीठ ने कहा कि किसी प्राइवेट नर्सिंग होम या अस्पताल द्वारा वसूला गया बिल उसमें उपलब्ध सुविधाओं पर भी निर्भर करता है।

पीठ ने एक जनहित याचिका को खारिज करते हुए यह बात कही। जनहित याचिका में दिल्ली सरकार को राष्ट्रीय राजधानी में प्राइवेट नर्सिंग होम और अस्पतालों की दरों में एकरूपता लाने के लिए अधिसूचना जारी करने का निर्देश देने की मांग की गयी थी। अदालत ने कहा, 'रोगियों द्वारा किये जाने वाले भुगतान के संबंध में सभी प्राइवेट नर्सिंग होम और अस्पतालों की तुलना नहीं की जा सकती।'
वहीं हवा की दिशा बदलकर पश्चिमोत्तर होने के कारण राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक रविवार को एक बार फिर गिरकर 'बहुत खराब' श्रेणी में पहुंच गया है। इसका एक कारण यह भी है कि पराली जलाए जाने की घटनाओं में फिर बढ़ोतरी दर्ज की गई है।